Roti

Roti

Roti,Hello friends स्वागत है आपका Healthybhoj में,Roti को हम बहुत सारे नाम से जानते हैं जैसे कि फुल्का चपाती और रोटला इत्यादि, Roti एक round flatbread  होती है जिसे कि इंडिया के साथ और भी 4-5 country में खाई जाती है ये एक बहुत ही famous dish है आज हम जानेंगे Roti को किस तरीके से बनाया जाए और उसके फायदे कैसे उठाये जाए।

       how to make roti   

Advertisement
How to make roti

सबसे पहले आप एक बर्तन में आटा डाले और फिर उसमे 
थोड़ी सी नमक डालें। उसके बाद एक कप या ग्लास में पानी ले और धीरे-धीरे उसमें पानी डालें और उसे मिलाते रहे आप देखेंगे पानी धीरे-धीरे आटे में absorb होता रहेगा एक बार में ज्यादा पानी कभी ना डालें थोड़ा-थोड़ा करके ही पानी डालते रहे और देखते रहना जब तक आटा पूरी तरह से मिलना जाए और एक soft dough  तैयार ना हो जाए इसके बाद इस आटे को कम से कम 3 घंटे के लिए आप rest करने के लिए रख दे एक बात याद रखें जितनी देर आपको आटे को गुंदेगे उतनी roti soft होगी और आटे को 3 घंटे के लिए rest में रखेंगे तब इसमें खमीर/Yeast activate हो जाएगा और यह  activated yeast/खमीर जाएगा यह बहुत अच्छा होता है digestion के लिए।
         आपको मैं suggestion दूंगा आप इसी तरीके से roti को बनाए अगर दोपहर को roti खाना चाहते हैं तो सुबह कोई आटा गूंद के रख दे और उसको कभी भी refrigerator में रखना नहीं चाहिए इसको किसी गर्म जगह में normal temperature  पर ही रखें और उसके बाद जब roti बनाने की बारी आए तब roti को बनाना शुरू करें।

        

roti recipe

roti recipe


       अब थोड़ी सूखा आटा लेकर roti को platform में रखकर अच्छी तरीके से बेलने की कोशिश करें starting में आप की roti टेढ़ी होगी लेकिन समय के साथ साथ वह गोल होने लगेगी और perfect roti बनने लगेगी उसके बाद उससे तवा पर डाल दे 10-15 सेकंड बाद उसे पलट दे फिर से 10-15 सेकंड बाद उसे और एक बार पलट कर side में दबाकर फूला ले अब आपकी गरमा गरम roti तैयार है जो digest अच्छी तरीके से हो जाएगी और आपको हल्दी भी रखेगी।

Know your body type – 

         

Advertisement
Roti kab aur kaise khana chahiye

ज्यादा तर लोग हमारे पास आकर शिकायत करते हैं कि अगर roti खाते हैं तो हमारे पेट में gas  हो जाती है acidity हो जाती है। तो हम उनसे पूछते हैं  कि किस चीज से roti खाई है। तब वह बताते हैं की एक या दो roti खाई है घर की बनी थोड़ी सी सब्जी के साथ और वह यह गर्व  से कहते हैं कि हमने तो कुछ गलत नहीं खाया। बात तो सही है, लेकिन आपने जो गेहूं की roti खाई है वह किस तरीके से खाई है वह समझने वाली बात है। गेहूं का आटा कैसे गूंथे जाना चाहिए गेहूं का roti खाई  है तो उसके साथ क्या खाना चाहिए था। आपको गेहूं के roti को घी पर लगाकर खाना चाहिए या फिर सिर्फ सूखी roti खानी चाहिए। आप गेहू के आटे को पानी से गुंदे या फिर दूध डालकर  गुंदे। roti आटे की ठीक है यह कब खाए और  कैसे खाएं  यह सब बातें आज हम आपको बताएंगे।

           तो सबसे पहले आप समझ लीजिए गेहूं एक ऐसा अनाज है जो सबसे ज्यादा आलस लाता है गेहूं की roti खाने के बाद आप थोड़ा आलसी feel करते हैं। इसलिए तीनों time गेहूं की roti नहीं खानी चाहिए ज्यादा से ज्यादा दो बार दिन में ठीक रहता है गेहूं की roti
           अगर आपने सुबह को roti खाई है तो दोपहर को चावल खाने चाहिए और अगर सुबह को पोहा, चिल्ला या फिर roti नहीं खाई है तो दोपहर को roti खा सकते हैं तो रात को आप फिर खिचड़ी ले ले किसी दिन या फिर हल्का सूप बना कर पी सकते हैं अगर आपको roti खाने का मन है तो कोई बात नहीं दो time भी दिन में चल सकती है roti लेकिन तीन time दिन में एकदम भी roti ना खाएं।
          और एक बात अगर अब roti को घी लगाकर खाते हैं तो यह कब खानी चाहिए और कब नहीं। अगर आप सर्दी में घी लगी roti खाते हैं तो यह बहुत अच्छा है लेकिन गर्मी में घी लगी roti कम ही खानी चाहिए या फिर ना ही खानी चाहिए। 
  
        सर्दी में body को energy चाहिए body को गर्म रखने के लिए इसलिए तब भूख थोड़ी तेज हो जाती है और  digestive system भी strong हो जाता है इसलिए सर्दी में आप घी लगी roti खा सकते हैं।
        वही गर्मी भी digestion उल्टा ठप हो जाता है slow  हो जाता है इसीलिए उस समय सूखी roti ही खाना अच्छी बात है।
        और एक बात लागू होती हैं वह गर्मी हो या सर्दी जिनका digestion slow है। उनको सूखी roti खानी चाहिए अगर सर्दी में भी घी लगी roti खाते हैं तो उनको low digestion, acidity  की problem हो सकती है और अगर उल्टा जिनका digestion strong है वह सर्दी या फिर गर्मी घी लगी roti खा ले तो आसानी से पच जाता है।
        और अगर जिनको heart की problem है और वह roti खाते हैं डॉक्टरों ने बोलते हैं कि घी नहीं खाने के लिए तो roti में घी ना लगाकर अपने सब्जी में भी डाल कर खा सकते हैं इससे उनका cholesterol level भी कम होता है और roti अच्छे से पूछती भी है।

  आटा कैसे गुंदा जाए:-अगर आप roti गुदने में ज्यादा समय लगाते हैं तो वह कम समय लगता है पचने में और अगर फटाफट जल्दी से आटा गूंद लेते है तो ज्यादा समय लगता है पचने में। अब जब भी roti बनाएं उसको छाने ना छलनी से क्योंकि वह जो छना हुआ चोकर जो फेंक देते हैं आप, वही आटे की असली जान होती है उसी में सारा fibre होता है अगर आप बीना छाने उस आटे को उसी के साथ बनाते हैं तो वह roti बहुत अच्छे से digest होता है और आपके पेट को भी साफ करता है वह चोकर आपके पेट में आटे के particles को चिपकने नहीं देते हैं और आपका पेट साफ रहता है।
     दूसरी बात अगर आपको कब्ज की शिकायत है और आप वजन कम करना चाहते हैं। तो आप अलग से चोकर ले और जितनी आप आटा लेते हैं उतनी ही चोकर और मिला दे। तो उसमें fibre और भी ज्यादा बढ़ जाएगा और आपका weight loss में help करेगा,आपका पेट भी साफ रखेगा और आपके चेहरे पर निखार भी आएगी।
      अब जितना देर आटे को गुधेगे 10 मिनट 15 मिनट जितना देर भी roti उतनी नरम होगी और अच्छे से digest होती है और एक बात अगर अब roti को अदरक के साथ लेते हैं अदरक का अचार हो गया या फिर अदरक की सलाद हो गया तो roti को digest होने में और ज्यादा help मिलती है या फिर roti को आप दोपहर lunch में खीरे के साथ अगर लेते हैं पहले आप खीरा खा ले उसके बाद roti और सब्जी खाए तब भी roti बहुत अच्छे से digest होती है।
       
         तो फिर आखिर में बात करते हैं जो दूध डालकर गुंधेटे हैं roti। ये health के लिए अच्छी होती है लेकिन एक बात आपको ध्यान रखना पड़ेगी जब भी आटा दूध के साथ गुंधेगे या फिर दूध से निकले पानी के साथ गुंधेगे उससे बनी roti कभी भी नमक के साथ नहीं लेनी चाहिए। क्योंकि यह शरीर में जाकर जहर का काम करती है और हमारे शरीर में toxins पैदा करती है इसीलिए कभी भी दूध से बनी roti के साथ नमकीन जैसे कि अचार, सब्जी या फिर कच्चा नमक नहीं खानी चाहिए।
     बस यही कुछ चीजों के बारे में आपको ध्यान रखना पड़ता है अगर अब roti को अच्छी तरह से पचना चाहते हैं और उसके health benefit उठाना चाहते हैं और अगर आपको यह blog अच्छा लगा तो कमेंट में हमें बताइए और अगर ना भी लगा तब भी बताइए और हमें subscribe जरूर कीजिए और आपके कोई भी सवाल हो तो बेहिचक कमेंट कर सकते हैं।


                                                          Thank you

Translate in English:-

Roti

Roti

Roti , Hello friends Welcome to Healthybhoj, we know Roti by many names like Phulka Chapati and Rotla etc. Roti is a round flatbread that is eaten in more than 4-5 countries with India. Today is a very famous dish, we will know how to make Roti and how to take advantage of it.

how to make roti

How to make roti

First you put the flour in a pot and then in it
Add a little salt. After that take water in a cup or glass and add water to it slowly and keep stirring it, you will see that the water will slowly absorb in the flour, never add more water at a time and keep adding water only little by little and keep watching. Till the dough is completely mixed and a soft dough is ready then after that keep this dough for at least 3 hours to rest, remember one thing, the longer you rotate the dough, the more roti soft It will keep the dough in rest for 3 hours, then Yeast / Yeast will be activated and it will be activated yeast / Yeast it is very good for digestion.
I would suggest you to make roti in the same way, if you want to eat roti in the afternoon, then in the morning keep some dough and it should never be kept in the refrigerator, keep it in a warm place at normal temperature and after that when roti
Advertisement
 When it comes to making, then start making roti .

        

roti recipe

roti recipe


Now try to roll the roti well by taking some dry flour on the platform and in the beginning your roti will be crooked but with time it will start to become round and become perfect roti then after that put it on the griddle after 10-15 seconds. Flip it again after 10-15 seconds and flip it once more and press it to the side and now your hot roti is ready which will digest properly and will also keep you turmeric.

Know your body type –

Roti kab aur kaise khana chahiye

More people come to us and complain that if we eat roti , then there is gas in our stomach. So we ask them what roti is eaten. Then he tells that he has eaten one or two roti with a little homemade vegetable and he says proudly that we have not eaten anything wrong. The matter is correct, but the manner in which the wheat roti you have eaten is understandable. How should the wheat flour be kneaded, so what should have been eaten with the roti of wheat? You should eat wheat roti with ghee or eat only dry roti . You knead wheat flour with water or by adding milk. Today we will tell you all the things about roti flour when it should be eaten and how to eat it.

So first of all, you should understand that wheat is such a grain which brings the most laziness, after eating wheat roti you feel a bit lazy. Therefore, the roti of wheat should not be eaten at all three times at most twice a day.
If you have eaten roti in the morning, then you should eat rice in the afternoon and if you have not eaten poha, shout or roti in the morning, then you can eat roti in the afternoon, then at night you can take khichdi again someday or make a light soup. If you feel like eating roti , then it does not matter if you can eat roti even in two days, but do not eat roti in three days.
And one thing, if we now eat roti with ghee, then when should it be eaten and when not. If you eat ghee roti in winter then it is very good, but ghee roti should not be eaten or eaten in summer.
In winter, the body needs energy to keep the body warm, so then the appetite becomes a little faster and the digestive system also becomes stronger, so in winter you can eat roti with ghee.
The same heat also slows down digestion upside down, so eating dry roti is a good thing at that time.
And one thing that applies is summer or winter whose digestion is slow. They should eat dry roti. If they eat ghee roti even in winter, then they may have a problem of low digestion, acidity and if those who have strong digestion eat cold or heat ghee roti is easily digested.
And if those who have a heart problem and they eat roti , the doctors say that for not eating ghee, then by adding ghee to roti , you can also eat it by adding ghee to your vegetables, it also reduces their cholesterol level and roti would ask well is also.

How to knead the dough: – If you take more time to knead the roti then it takes less time to digest and if the dough is kneaded quickly, it takes more time to digest. Now whenever you make roti, do not sieve it with a sieve because the filtered bran that you throw is the real life of the same flour, there is all the fibre in it. If you make that dough with the same flour then it will roti It digests very well and cleans your stomach as well. Those bran do not allow the flour particles to stick in your stomach and your stomach remains clean.
Secondly, if you have constipation and you want to lose weight. So you take the bran separately and add as much bran as you take the flour. So the fiber will increase in it even more and will help in your weight loss, will keep your stomach clean and will also improve your face.
Now as long as the dough rotates for 10 minutes 15 minutes, the roti will be soft and digest properly and one thing if you take roti with ginger, ginger pickle or ginger salad then roti It helps more in digesting or if you take roti with cucumber in the afternoon lunch, first you eat cucumber and then eat roti and vegetables, even then roti digest very well.
Then finally let’s talk about those who are milked by adding roti . This is good for health, but one thing you have to keep in mind that whenever a dough is kneaded with milk or with water released from milk, roti made from it should never be taken with salt. Because it works as a poison in the body and produces toxins in our body, one should never eat salty such as pickles, vegetables or raw salt with roti made from milk.
Just these are some things you have to keep in mind if now you want to digest roti well and want to take its health benefits and if you liked this blog, then tell us in the comment and even if it is not, tell me Do subscribe to us and if you have any questions, feel free to comment.


Thank you

Advertisement

2 thoughts on “Roti”

Leave a Comment